Breaking News
Home » Live TV » शिवहर : जिप अध्यक्षा के पति- सह- संवेदक के एसबीआई खाते से हुई 10 लाख रुपये की ठगी

शिवहर : जिप अध्यक्षा के पति- सह- संवेदक के एसबीआई खाते से हुई 10 लाख रुपये की ठगी

शिवहर : जिप अध्यक्षा के पति- सह- संवेदक के एसबीआई खाते से हुई 10 लाख रुपये की ठगी

संवाददाता मनीष नन्दन सिंह

शिवहर (5 अक्टूबर 2017) पुलिस अधीक्षक प्रकाश नाथ मिश्र ने बुधवार की शाम विभागीय व्वाट्सॉप के माध्यम से प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि जिला लोक स्वास्थ्य प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता मनीष कुमार के सरकारी मोबाइल पर लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण के विभागीय सचिव विनय कुमार बनकर फोन पर बोला कि हम अस्पताल में है तुरंत 10 लाख रुपया भेजिए! उसके बाद कार्यपालक अभियंता मनीष कुमार ने लोक स्वास्थ्य अभियंता के संवेदक- सह- जिला परिषद् अध्यक्षा के पति मनोज कुमार सिंह से 10 लाख रुपये की चेक मांग की आैर फिर दुबारा उसी फोन नम्बर से पटना के पारियो बिहाटा थाना क्षेत्र अंतर्गत कैनरा बैंक के खाता धारक राजीव रंजन के खाते में पैसा डालने के लिए कहा गया! उसी वक्त संवेदक मनोज कुमार सिंह ने एसबीआई शिवहर बैंक से अपने फॉर्म के खाता से अारटीजीएस के माध्यम से 10 लाख रूपया भेज दिया आैर उधर कैनरा बैंक के खाता से राशि निकासी कर ली गई! जबकि इस मामले में पुलिस अधीक्षक की माने तो प्रथम दृष्टया धोखाधड़ी करने की है!
इसलिए उन्होंने बताया कि जिला लोक स्वास्थ्य प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता मनीष कुमार ने शिवहर नगर थाने में 02/10/2017 को टंकित आवेदन दे कर प्राथमिकी दर्ज कराया है! जिसमें लिखा गया है कि 26/09/2017 को उनके सरकारी मोबाइल पर विनय कुमार ने विभागीय सचिव बोल कर धोखाधड़ी से बैंक खाते के माध्यम से 10 लाख रुपया ले लिया है! इस मामले को लेकर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सुनियोजित ढंग से साजिश के तहत मुर्खतापूर्ण कार्य किया गया है! जिसका पर्यवेक्षण स्वयं पुलिस अधीक्षक एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कर रहे हैं! इस मामले में आम जन को सचेत करते हुए पुलिस अधीक्षक ने कहा कि इस प्रकार के धोखाधड़ी में बड़ी राशि भेजने के लिए पुलिस का सहयोग लें आैर पुलिस के तहकीकात के बाद ही उनके सलाह के अनुसार राशि हस्तांतरित करें ताकि इस प्रकार के धोखाधड़ी का शिकार नहीं होंगे! जबकि पुलिस अधीक्षक ने इस मामले में तकनिकी कोषांग एवं एसबीआई बैंक व कैनरा बैंक के सभी उधार लेने वाले कंपनी से पूछताछ कर रही है आैर उधर दोनों बैंक के शाखा प्रबंधक की भूमिका को भी जॉच की जा रही है साथ ही विलम्ब से थाने में प्राथमिकी दर्ज कराने के बिन्दुओं पर भी जॉच शुरू हो गया है! वहीं पुलिस अधीक्षक ने इस कांड के अनुसंधानकर्ता पुलिस अवर निरीक्षक विनय कुमार को बनाया है!

About Vikash Kumar

x

Check Also

मोतिहारी: सरकारी कार्य मे बाधा पहुँचाने के आरोप मे दर्ज एफ आई आर के आरोपितो को हरसिद्धी पुलिस ने किया गिरफ्तार

मोतिहारी: सरकारी कार्य मे बाधा पहुँचाने के आरोप मे दर्ज एफ आई आर के आरोपितो को हरसिद्धी पुलिस ने किया ...